Supreme Court Orders NEET Results be Declared – CBSE to Announce them in Two Weeks (Hindi, Tamil, Malayalam Version Included)

Supreme Court Orders NEET Results be Declared – CBSE to Announce them in Two Weeks (Hindi, Tamil, Malayalam Version Included)

NEW DELHI: The Supreme Court (SC) on Monday ordered that the results of the 2017 NEET be declared by June 26, thereby overruling a stay the Madras high court had issued.

The Central Board for Secondary Education (CBSE), which conducts NEET, said it will declare the NEET results by June 26 as per the SC order. The results were originally scheduled to be released June 8.

The top court on Monday also directed all high courts not to entertain any petition on the 2017 NEET.

The CBSE, which challenged the Madras high court’s stay last Thursday, conducts the common MBBS and BDS courses’ admission test, which this year was taken by 11.38 lakh students.

The Madras HC had on May 24 stayed the declaration of results on finding that while the NEET question papers for nearly 10.5 lakh students who took the examination in English and Hindi were same, they were different for those who appeared in the test in eight other vernacular languages.

Last week, additional solicitor general Maninder Singh sought an urgent hearing on the CBSE’s appeal before an SC bench. He said a delay in declaring the NEET results would not only create anxiety among a vast section of the student community, it would also put in jeopardy the timely completion of admissions to undergraduate courses – MBBS and BDS – in government and private medical colleges. The admissions schedule at these government colleges has already been fixed by the apex court.

The CBSE said it decided to make the question papers in languages other than in English and Hindi to ensure that in the event of any leaks, it would not have to cancel the entire examination.

Hindi Version

राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा यानि नीट के नतीजे पर लगी रोक को सुप्रीम कोर्ट ने हटा दिया है और मद्रास हाई कोर्ट के फैसले पर स्‍टे लगा दिया है. इससे पहले मद्रास हाई कोर्ट की मदुरै बेंच द्वारा नीट रिजल्‍ट पर रोक लगाए जाने के बाद सीबीएसई ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दी थी. बता दें कि मद्रास हाई कोर्ट के मदुरै बेंच ने 8 जून को नीट के नतीजे जारी करने पर रोक लगा दी थी. नीट रिजल्‍ट पर रोक का मामला करीब 12 लाख अभ्यार्थियों के भविष्य से जुड़ा है. करीब साढे दस लाख छात्रों ने हिन्दी या अंग्रेजी भाषा में परीक्षा दी थी, जबकि करीब सवा से डेढ लाख छात्रों आठ क्षेत्रीय भाषाओं में परीक्षा में बैठे थे.

गौरतलव है कि सीबीएसई ने शुक्रवार को देश में एमबीबीएस और बीडीएस पाठ्यक्रमों में प्रवेश के लिए नीट 2017 परीक्षा के नतीजों को प्रकाशित करने पर रोक के मद्रास उच्च न्यायालय के आदेश पर तत्काल रोक लगाने की उच्चतम न्यायालय से गुहार लगाई. उच्च न्यायालय ने 24 मई को कई याचिकाओं पर नीट परिणाम के प्रकाशन पर अंतरिम रोक लगाई थी. याचिकाओं में आरोप लगाया गया था कि परीक्षा में एक जैसा प्रश्नपत्र नहीं दिया गया और अंग्रेजी तथा तमिल भाषाओं के प्रश्नपत्रों में बहुत अंतर है.

क्या है पूरा मामला ?
इस साल नीट का एग्‍जाम हिंदी और अंग्रेजी के अलावा अन्‍य आठ भाषाओं में हुआ था. मद्रास हाईकोर्ट में एक याचिका दाखिल कर यह बात कही गई थी कि स्थानीय भाषाओं में पूछे गए सवाल अंग्रेजी भाषा में पूछे गए सवालों के मुकाबले आसान थे. वहीं गुजरात हाईकोर्ट में एक याचिका दाखिल कर कहा गया था कि गुजराती में पूछे गए सवाल अंग्रेजी के मुकाबले कठिन थे. गुजरात में नीट मामले पर मंगलवार को सुनवाई की गई थी. वहीं सीबीएसई ने इस मामले में कहा था कि सभी पेपरों को मॉडरेटरों ने तय करके एक ही लेवल का निकाला था. बोर्ड का कहना है कि सभी भाषा में पेपर का डिफिकल्टी लेवल एक जैसा ही था.

मेडिकल में एडमिशन के लिए होता है नीट का आयोजन
नीट का आयोजन मेडिकल और डेंटल कॉलेज में एमबीबीएस और बीडीएस कोर्सेस में प्रवेश के लिए किया जाता है. इस परीक्षा के द्वारा उन कॉलेजों में प्रवेश मिलता है, जो मेडिकल कांउसिल ऑफ इंडिया और डेटल कांउसिल ऑफ इंडिया के द्वारा संचालित किया जाता है.

Tamil Version

புதுடில்லி : மருத்துவ படிப்பில் சேர்வதற்கான நுழைவு மற்றும் தகுதி தேர்வான நீட் தேர்வு மே 7 ம் தேதி நாடு முழுவதும் நடந்தது. இதில் ஒவ்வொரு மாநிலத்திற்கும் ஒவ்வொரு விதமாக கேள்விகள் கேட்கப்பட்டிருப்பதாகவும், அதனால் நீட் தேர்வை ரத்து செய்ய வேண்டும் எனவும் மாணவர்கள் சிலர் மதுரை ஐகோர்ட் கிளையில் மனு தாக்கல் செய்தனர்.

மாணவர்களின் கோரிக்கையை ஏற்ற மதுரை ஐகோர்ட் கிளையும், நீட் தேர்வு முடிவுகளை வெளியிட இடைக்கால தடை விதித்தது. இதனை எதிர்த்து சிபிஎஸ்இ சார்பில் சுப்ரீம் கோர்ட்டில் மேல்முறையீடு செய்யப்பட்டது. மாணவர்களின் எதிர்கால நலன் கருதி இதனை அவசர வழக்காக விசாரிக்கவும் சிபிஎஸ்இ கேட்டுக் கொண்டது. இதனையடுத்து இந்த மனுவை விசாரணைக்கு ஏற்ற சுப்ரீம் கோர்ட், இன்று (ஜூன் 12) விசாரித்தது.

மனுவை விசாரித்த சுப்ரீம் கோர்ட், நீட் தேர்வு முடிவுகளை வெளியிடலாம் என அனுமதி அளித்தது. மேலும் மதுரை ஐகோர்ட் கிளை விதித்த தடை உத்தரவை நீக்கியதுடன், நீட் தேர்வு தொடர்பான வழக்குகளை மாநில ஐகோர்ட்கள் விசாரிக்க வேண்டாம் எனவும் தெரிவித்துள்ளது. சுப்ரீம் கோர்ட்டின் இந்த தீர்ப்பை கல்வியாளர்கள் பலரும் வரவேற்றுள்ளனர்.

நீட் தேர்வு முடிவுகளை வெளியிடுவதற்கு சுப்ரீம் கோர்ட் அனமதி அளித்துள்ளதை அடுத்து நாளை மறுநாள் (ஜூன் 14) நீட் தேர்வு முடிவுகளை வெளியிட சிபிஎஸ்இ திட்டமிட்டுள்ளது. அதே நேரத்தில் நாளையே தேர்வு முடிவுகள் வெளியாக வாய்ப்பு உள்ளது என்றும் கூறப்படுகிறது.

Malayalam Version

ന്യൂഡല്‍ഹി: നീറ്റ് പരീക്ഷ ഫലം പ്രസിദ്ധീകരിക്കാമെന്ന് സുപ്രീംകോടതി. ഹൈകോടതി ഉത്തരവുകള്‍ക്കെതിരെ സി.ബി.എസ്.ഇ നല്‍കിയ ഹരജിയിലാണ് സുപ്രീംകോടതി ഉത്തരവ് .

ഹിന്ദി, ഇംഗ്ലീഷ് ഭാഷകളിലുള്ള പരീക്ഷക്കും പ്രാദേശിക ഭാഷകളിലുള്ള പരീക്ഷകള്‍ക്കും വ്യത്യസ്ത ചോദ്യ പേപ്പറുകള്‍ നല്‍കിയത് ചോദ്യം ചെയ്ത ഹരജികളില്‍ മദ്രാസ്, ഗുജറാത്ത് ഹൈകോടതികളാണ് സ്റ്റേ ഉത്തരവ് പുറപ്പെടുവിച്ചത്.

ഇത് നീക്കി ഫലം പുറത്തു വിടാന്‍ അനുവദിക്കണമെന്നും ഹൈകോടതികളിലെ നടപടികള്‍ സുപ്രീം കോടതിയിലേക്ക് മാറ്റണമെന്നുമായിരുന്നു സി.ബി.എസ്.ഇ ആവശ്യപ്പെട്ടത്. ഫലം രണ്ടാഴ്ചക്കുള്ളിൽ പ്രസിദ്ധീകരിക്കുമെന്ന് സി.ബി.എസ്.ഇ അറിയിച്ചു.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

submit_an_article

Would you like to see your article on GConnect?

If you have an article/story to share with GConnect readers, we would be glad to publish it.

Submit Article

You might also like
Comments
Loading...